दोगुनी कमाई के लिए खेती में नए दृष्टिकोण: मिश्रित खेती का जादू! 

मिश्रित खेती से कम जगह में अधिक फसलों की उत्पादन बढ़ाती है, जिससे किसानों को दोगुनी से तीन गुनी तक कमाई होती है. 

एक साथ 3-4 विभिन्न फसलों की खेती से विविधता में समृद्धि होती है, जिससे खेत में पोषण संजीवनी होती है. 

कुछ फसलों को तैयार होने में समय लगता है, जबकि दूसरी तत्पर रहती हैं, जिससे समय का बेहतर उपयोग होता है. 

मिश्रित खेती से खेतों का पर्यावरणीय समर्थन होता है, क्योंकि एक समय में एक स्थान पर अधिक उपयोग होता है. 

फसलों को सही समय पर उगाने से उनमें अधिक पोषण होता है, जिससे उत्कृष्ट उपज मिलती है. 

किसान बचत कर सकते हैं, क्योंकि एक ही जमीन पर अधिक फसलों की खेती से उन्हें अधिक आय होती है. 

मिश्रित खेती की सफलता एक बार ट्राई करने पर स्थायी होती है, जिससे किसान हमेशा इसे अपनाते हैं.