बैंकों से सीसीएल बनवा रही मिलें किसानों को होगा फायदा।

इस साल गन्ना रकबा 2.63 लाख हेक्टेयर जमीन में है।

 गन्ना पेराई सत्र शुरू हो चुका है और किसान लगातार गन्ना लेकर जा रहे हैं।

नियमों के अनुसार किसानों को 14 दिन के अंदर गन्ना भुगतान मिलना चाहिए।

चीनी मिलें भी बड़े व्यापारियों को चीनी बेचती हैं।

गन्ना रकबे के साथ बैंकों से सीसीएल बनवा रही मिलें आम किसानों को सहारा प्रदान कर रही हैं।

किसान अपनी जमीन पर गन्ना उगा रहे हैं और उसे बेचकर आर्थिक लाभ प्राप्त कर रहे हैं।

किसानों को नियमों के अनुसार गन्ना भुगतान में सुधार हो रहा है।

बैंकों से सीसीएल बनवा रही मिलें किसानों को स्थानीय अर्थव्यवस्था में सकारात्मक परिवर्तन लाने में मदद कर रही हैं