Sugarcane News: यूपी में गन्ना किसानों को एक क्लिक में अतिरिक्त ऑनलाइन सट्टे की सुविधा, जानें कैसे

Sugarcane News: उत्तर प्रदेश सरकार गन्ना किसानों की बढ़ती मांगों को ध्यान में रखते हुए उनके हितों की सुरक्षा के लिए कदम उठा रही है। किसानों द्वारा उत्पादित गन्ना की अधिशेष मात्रा को सही रूप से नियंत्रित करने के लिए, राज्य सरकार ने सभी चीनी मिलों में एक साथ 1424 लाख कुन्तल अतिरिक्त गन्ना सट्टे की ऑनलाइन सुविधा प्रदान की है।

इस से किसानों को अपने निर्धारित कोटे से अधिक गन्ना बेचने में सुविधा होगी और उन्हें और बेहतर मार्गदर्शन मिलेगा। यह पहल किसानों को स्थायी लाभ पहुंचाने की दिशा में कदम उठाने का एक प्रमुख प्रयास है जो गन्ना क्षेत्र में सुस्ती और सहारा प्रदान करेगा।

उत्तर प्रदेश सरकार किसानों के हितों की देखभाल के लिए प्रयासशील है और उन्हें अतिरिक्त सुविधाएं प्रदान करने का प्रयास कर रही है। किसानों के निर्धारित कोटे से अधिक गन्ना उत्पादन को सहज बनाए रखने के लिए राज्य सरकार ने प्रदेश की सभी चीनी मिलों में 1424 लाख कुंटल अतिरिक्त गन्ना सट्टे की ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध कराई है।

इससे किसानों को अपने उत्पाद को बेहतर मूल्य में बेचने का मौका मिल रहा है और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो रहा है। यह कदम गन्ना किसानों को स्थायी लाभ पहुंचाने में मदद कर रहा है और उन्हें समृद्धि की दिशा में आगे बढ़ने में सहायक हो रहा है।

Sugarcane News: गन्ने की खेती को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से सुधारने के लिए कई उपाय किए जा सकते हैं।

चीनी मिलों को गन्ने की आवश्यकता को पूरा करने और गन्ना विकास विभाग द्वारा किसानों के बेसिक कोटा बढ़ाने के साथ ही अतिरिक्त सट्टे की सुविधा प्रदान करने के लिए समितियों द्वारा कोई प्रशासनिक शुल्क नहीं लिया जाएगा। प्रदेश में अतिरिक्त सट्टे की सुविधा से गन्ना किसानों को उपज आपूर्ति हेतु पर्ची प्राप्त करने में कोई समस्या नहीं होगी।

किसानों के पूर्व निर्धारित सट्टे में कुल 1424 लाख कुन्तल अतिरिक्त गन्ना सट्टा जोड़कर विभाग द्वारा चीनी मिलों का सट्टा बढ़ाया जाएगा। इससे गन्ना की आवश्यकता को पूरा करने की सुरक्षित रूप से सामान्यता मिलेगी। किसानों को 7वीं पार्टी से अतिरिक्त सट्टेबाजी से भी लाभ मिलेगा, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने गन्ना किसानों की सुविधा को प्राथमिकता देते हुए अब उन्हें चीनी मिलों के माध्यम से ऑनलाइन माध्यम से अतिरिक्त सट्टे की सुविधा का लाभ देने का निर्णय लिया है।

अगर किसान की गन्ना सट्टा मात्रा पिछले पेराई सत्र की प्रति हेक्टेयर औसत गन्ना आपूर्ति से कम है, तो उसे औसत गन्ना आपूर्ति के 85% तक अतिरिक्त सट्टे का लाभ प्रदान किया जाएगा। इस उपाय से किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा और उन्हें सही मौके पर आर्थिक सहायता मिलेगी। इस पहल से उन किसानों की जरूरतों को ध्यान में रखकर उन्हें यथावत क्रियान्वित किया जाएगा।

गन्ने की अस्वीकृत किस्मों को अतिरिक्त अटकलों में शामिल नहीं किया जाएगा 

अतिरिक्त सट्टा पर्चियों पर गन्ने की आपूर्ति बढ़ने से किसानों का गन्ना विभाग और चीनी मिलों के प्रति विश्वास मजबूत होगा। इस सुविधा को किसानों के हित में लागू करने से, किसानों को प्रति हेक्टेयर अधिक मात्रा में गन्ना आपूर्ति करने की सुविधा मिलेगी। छोटे गन्ना किसान समय पर अपना गन्ना चीनी मिलों को सही समय पर दे सकेंगे।

इसके अलावा, ड्रिप सिंचाई से सिंचाई करने वाले गन्ना किसानों को भी अतिरिक्त सट्टे में प्राथमिकता दी जाएगी। ऐस्वीकृत प्रजाति का गन्ना अतिरिक्त मूल्यांकन में शामिल नहीं किया जाएगा। इसके माध्यम से किसानों को सुविधाजनक और सहज तरीके से उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *