कुशीनगर में किसानों ने गन्ना तौल केंद्र इंचार्ज को बनाया बंधक, इस बात को लेकर थे नाराज

कुशीनगर में किसानों ने गन्ना तौल केंद्र इंचार्ज को बनाया बंधक, इस बात को लेकर थे नाराज
कुशीनगर में किसानों ने गन्ना तौल केंद्र इंचार्ज को बनाया बंधक, इस बात को लेकर थे नाराज

Kushinagar Farmers Protest : उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में किसानों ने गन्ना तौल केंद्र पर तौल इंचार्ज और चौकीदार को कुर्सी से बांध दिया। किसान इस हरकत में उनको गन्ना सप्लाई टिकट नहीं मिलने के कारण नाराज थे।


Kushinagar News: कुशीनगर जिले में गन्ना सप्लाई टिकट नहीं मिलने और दो दिन से तौल नहीं होने से नाराज किसानों ने सोमवार को छितौनी केन यूनियन के पुर्नहा बुजुर्ग तौल केंद्र पर हंगामा किया। किसानों ने पहले गन्ना और पत्तियों को जलाकर विरोध जताया और नारेबाजी की। उसके बाद केंद्र के तौल इंचार्ज विवेक शुक्ल और चौकीदार शमशेर अंसारी को कुर्सी में रस्सी से बांध दिया। दस मिनट तक तौल इंचार्ज और चौकीदार को रस्सी से बांधे रखा।
किसान पिपराइच चीनी मिल प्रबंधन को कोसते हुए अपने घर की ओर बढ़े। करीब दो घंटे तक केंद्र पर अफरातफरी छाई रही। पिपराइच चीनी मिल का गन्ना तौल केंद्र विशुनपुरा ब्लॉक के पुर्नहा बुजुर्ग गांव में स्थित है। इस तौल केंद्र को पुर्नहा बुजुर्ग, मठिया प्रसिद्ध तिवारी, घूरछपरा, और पुर्नहा मिश्र समेत चार गांवों का गन्ना आवंटित किया गया है। चीनी मिल के जिम्मेदारों की लापरवाही से किसानों को परेशानी हो रही है। सरकारी व्यवस्था होने के कारण कोई सुधार भी नहीं हो रहा है।


कुशीनगर में किसानों ने गन्ना तौल केंद्र इंचार्ज को बनाया बंधक, इस बात को लेकर थे नाराज: गन्ने की तौल नहीं होने से किसान नाराज
समय पर पर्ची नहीं आने के कारण किसानों के गन्ने की तौल ठीक से हो नहीं पा रही है। इस केंद्र से रविवार से गन्ने की तौल बंद हो गई है। किसानों को पिछले पांच दिनों से पर्ची नहीं मिल रही है। तौल यार्ड में गन्ना लोड करने के लिए करीब 30 ट्रैक्टर-ट्रॉली सोमवार को भी खड़ी थीं। गन्ने की तौल और पर्ची की कमी से नाराज किसानों ने सोमवार की सुबह लगभग 11 बजे तौल केंद्र पर हंगामा शुरू कर दिया था।
दस मिनट बाद दोनों को मुक्त किया
नाराज किसानों ने यार्ड में ही गन्ना और पत्तियां जलाकर चीनी मिल प्रबंधन के खिलाफ हंगामा किया और जमकर नारेबाजी की। इसके बाद नाराज किसानों ने तौल इंचार्ज विवेक शुक्ल और चौकीदार शमशेर अंसारी को कुर्सी में रस्सियों से बांधकर विरोध जताया। हालांकि, दस मिनट बाद किसानों ने दोनों को रस्सियों से मुक्त कर दिया। तौल केंद्र पर करीब दो घंटे तक हंगामा और अफरा तफरी मची रही।


क्या कहा तौल इंचार्ज ने?
तौल इंचार्ज ने बताया कि मेरे साथ किसानों ने गलत किया है। दस मिनट तक मुझे और चौकीदार को रस्सियों से बांधा गया था। चीनी मिल में गन्ना लदी ट्रैक्टर-ट्रॉली अधिक होने से पांच दिन से सप्लाई टिकट जारी नहीं हो रहा है। इसमें मेरा क्या कसूर है? तौल केंद्र पर 26 किसानों ने बिना पर्ची के ही गन्ना लदी ट्रॉली खड़ी कर दी है। इनके अलावा केवल तीन किसानों के पास पर्ची है। मेरा रस्सियों में बंधे वीडियो को भी वायरल कर दिया गया है। मेरी काफी मानहानि हुई है। मैं नौकरी छोड़ने वाला हूं।
किसानों का कहना है कि पिपराइच चीनी मिल प्रबंधन की लापरवाही के कारण समय से गन्ना आपूर्ति के लिए पर्ची नहीं मिल पा रही है। दो दिनों से गन्ने की तौल भी नहीं हो पा रही है। गन्ना ट्रालियों पर पड़े सूख रहा है। शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *