जानीये कैसे अगस्त के महीने में गेंदे व् शिमला मिर्च की इन्टरक्रोप्पिंग खेती कर के कमाए मुनाफा?

जानीये कैसे अगस्त के महीने में गेंदे व् शिमला मिर्च की इन्टरक्रोप्पिंग खेती कर के कमाए मुनाफा

पुरे साल में अगस्त का महीना एक ऐसा महीना है, जिसमे हम उचित विधि से सही फसलों का चुनाव करते हैं और फिर इन फसलों की बुवाई करते हैं तो आने वाले महीनो में लाखो रुपया की आमदनी ले सकते हैं। इसलिए अगस्त का महीना हर किसान भाई के लिए बहुत ही ज्यादा महत्व रखता है। क्यूंकि अगस्त के महीने में हम 20 से ज्यादा फसलों की बुवाई कर सकते हैं। 

इसका सबसे महत्वपूर्ण कारण यह है की अगस्त का महीना में तापमान कई सारे फसलों के लिए अनुकूल होता है। लकिन इस लेख में मैं आपको कुछ फसलों की जानकारी दूंगा जिनकी बुवाई आप अगस्त के महीने कर सकते हैं, और जिनका भाव हमे आयने वाले महीनो में अच्छा मिलेगा। आइये इस लेख के माध्यम से हम इन फसलों के बारे में जानते हैं। 

अगस्त के महीने में शिमला मिर्च व् गेंदा की खेती करें। 

शिमला मिर्च व् गेंदा, इन दोनों ही फसलों की नर्सरी आप अगस्त के महीने में लगा सकते हैं। अगस्त का महीना शिमला मिर्च की खेती के लिए सबसे उपयुक्त समय होता है। शिमला मिर्च की खेती के साथ हम गेंदे की भी इन्टरक्रोप्पिंग कर सकते हैं। इन दोनों ही फसलों का एक साथ इन्टरक्रोप्पिंग करने का कारण यह है की, यह दोनों ही फसले एक दूसरे के सहायक है। 

इन्हें भी पढ़े।

यह फायदे होते हैं शिमला मिर्च और गेंदे के पौधों की इन्टरक्रोप्पिंग करने से?

दरसल शिमला मिर्च की जड़ो में हमे निमाटोड की समस्या देखने को मिलती है। वही गेंदे के पौधों का एक दम जाल सा बन जाता है। इसलिए नेमाटोड गेंदे की फसल के जड़ो में फस कर वही मर जाता है। तथा दूसरा कारण है यह है की गेंदे की पिले फूल मछरो को आकर्षित करते हैं जिस कारण शिमला मिर्च के पौधों के ऊपर हमे मछरो का अटैक हमे कम देखने को मिलता है। 

इसलिए हमे अगस्त के महीने में शिमला मिर्च के पौधे के साथ गेंदे के पौधों का इंटरक्रॉपिंग करना चाहिए, ताकि हम ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सके। शिमला मिर्च की खेती के लिए आप सिंजेंटा कम्पनी की इंदिरा वैरायटी या फिर शाइन कम्पनी की ऍफ़ वन वैरायटी का बीज ले सकते हैं। वही गेंदे के लिए आप नाम धारी अफ्रीकन मेरीगोल्ड डबल ऑरेंज व् इंडस सीड्स की टेनिस बाल के बीज ले सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *