Basti News : बस्ती में मुफ्त राशन समाप्त ? उपभोक्ता वेलफेयर एसोसिएशन की चेतावनी!

बस्ती में मुफ्त राशन समाप्त: बस्ती में कोटेदारों ने कमीशन बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला है। उपभोक्ता वेलफेयर एसोसिएशन के नेतृत्व में कोटेदारों ने ज्ञापन सौंपकर सरकार से मांग की।

Basti News: आज उत्तर प्रदेश के बैनर तले, बस्ती जिले के सभी कोटेदारों ने आदर्श कोटेदार एवं उपभोक्ता वेलफेयर एसोसिएशन के संग एक मोर्चा खोला है, जिसमें कमीशन बढ़ाने की मांग की गई। इस मुद्दे पर, जिलाअधिकारी कार्यालय में मुख्यमंत्री और प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद व खाद्य आयुक्त को ज्ञापन सौंपा गया। कोटेदार एसोसिएशन ने चेतावनी दी है कि अगर राशन वितरण का लाभांश बढ़ाया नहीं गया तो वे जनवरी से राशन का वितरण नहीं करेंगे

एसोसिएशन जिलाध्यक्ष विनोद ने बताया कि शासन के निर्देशों के अनुसार, कोटेदार फ्री राशन वितरण का कार्य कर रहे हैं। उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना काल में भी कोटेदारों ने अपने और अपने परिवार की परवाह किए बिना फ्री राशन वितरण किया है, लेकिन उन्हें इसके बजाय सिर्फ 90 रुपये प्रति कुंटल की शक्ल में लाभयान्श दी जा रही है।

कोटेद्वारों ने की कमीशन बढ़ाने मांग

जबकि अन्य राज्यों में जैसे हरियाणा, दिल्ली, गोवा, महाराष्ट्र, राजस्थान में कोटेदारों को 200 रुपये प्रति कुंटल का लाभयांश मिल रहा है, वहीं यहां उत्तर प्रदेश में बीजेपी शासित राज्य गुजरात में कोटेदारों को 20 हजार रुपये मानदेय की शक्ल में दी जा रही है। इससे कोटेदारों के परिवार पर संकट के बादल गहराते नजर आ रहे हैं। कोटेदारों ने एक चेतावनी दी है कि अगर राशन वितरण का लाभांश नहीं बढ़ाया गया तो उन्हें जनवरी से राशन का वितरण नहीं करने का निर्णय किया जा सकता है।

तो क्या राशन दुकानों में नहीं मिलेगा राशन

आदर्श कोटेदार एवं उपभोक्ता वेलफेयर एसोसिएशन जिलाध्यक्ष ने इस मांग को लेकर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री एवं प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद व खाद्य आयुक्त को पत्र लिखा है। उन्होंने बताया है कि प्रदेश के कोटेदारों को 90 रूपए प्रति कुंतल का लाभांश दिया जा रहा है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सरकार हमारा लाभांश नहीं बढ़ाती तो प्रदेश के समस्त कोटेदार जनवरी 2024 से राशन वितरण करना बंद कर देंगे, जिसकी पूरी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *